सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आत्मविश्वाश......a very motivational story

आत्मविश्वाश......a very motivational story



Motivational kahani कहानी के अंतर्गत बहुत ही मोटिवेशनल स्टोरी share कर रहा हूँ यह मोटिवेशनल कहानी  आपकी जिंदगी परिवर्तित कर सकती है
Inhindistory

              एक  बिजनिस मेन राम को अपने बिजनैस मे बहुत घाटा लग जाता है जिससे वह कर्ज मे बुरी तरह फंस जाता है उसके दोस्त famely सब उसका साथ छोड़ देते हैं ऐसी हालत मे जनरली लोग क्या सोचते है सोसाइड करने की वह भी यही सोचने लगता है कि उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई अब उसके जीवन मे कुछ अच्छा नही हो सकता इतना सारा कर्ज वह कभी भी नही चूका सकता ऐसे ही बैठा पार्क मे यह सब सोचता है तभी सामने से एक व्यक्ति आता दिखाई देता है उस व्यक्ति के पहनावे से साफ लगता है कि वह कोई बहुत अमीर  आदमी है वह सीधा राम  के पास जाता है और उसकी उदासी का कारण पूछता है राम अपनी पूरी story उसे बताता है वह व्यक्ति थोड़ा गंभीर हो कर कुछ सोचता fir बोलता है कि वह इस शहर का सबसे अमीर आदमी है और अपनी जेब से एक blank check देता है और बोलता है कि तुमको जीतने भी रुपए की जरुरत हो भर लेना । एक साल बाद हम ऐसी पार्क मे मिलेंगे जब मेरे रुपए बापस कर देना इतना कहकर वह व्यक्ति चला जाता है।

                   राम को भरोसा ही नही होता कि उसकी इतनी बड़ी प्रॉब्लम इतनी आसानी से सुलझ गई  अब वह decide करता है कि पहले वो अपने business को अपने बल पर फिर से शुरू करेगा और कोई दिक्कत आएगी तब उस check का  उपयोग करेगा फिर क्या था राम ने एक नई शुरुआत की और अपनी मेहनत के बल पर अपना पूरा कर्ज चूका दिया और अपने business को भी बहुत बड़ा कर लिया एक साल बाद राम ने वह blank चेक अपनी जेब मे डाला और उस पार्क की और चल दिया जहाँ उस व्यक्ति ने राम को blank चेक दिया था।राम पार्क पहुँचकर उस व्यक्ति का इंतजार करने लगा तभी देखता है सामने से वही व्यक्ति आ रहा है पर जैसे ही राम उस व्यक्ति की तरफ बड़ा इतने मे कुछ लीगो ने आकर उस व्यक्ति को पकड़ लिया और ले जाने लगे तभी रामने चिल्लाकर कहा कि तुम लोग क्या कर रहे हो यइ शहर के सबसे अमीर आदमी हैं  तब उन लोगों ने हँसकर जबाब दिया की साहब ये कोई आमिर आदमी नही है पागल है जो लोगो को blank चेक देता है और अपने आप को आमिर आदमी बताता है।राम ने सर पकड़ लिया जिसके बल पर उसने पूरा business फिर से शुरू किया वह चेक बस एक कागज का टुकड़ा मात्र था ।

              तो दोस्तों देखा कि कैसे हम बिपरीत परिस्थितियों में टूट जाते हैं उम्मीद खो देते हैं जबकि हमारे अंदर इतनी क्षमता होती है कि उस परिस्थिति से आसानी से निकल सकते हैं कैसें राम पहले सोचता था कि वह कर्ज नही चूका सकेगा पर जैसे ही चेक उसके पास आया उसके बाद बिना उसे उपयोग किये अपना पूरा बिज़नस फिर से शुरू कर लेता है जबकि  वह check only कागज का टुकड़ा था। यदि दोनों परिस्थितियों की तुलना करें तो वो same है पर राम का attitude और सोचने मे डिफरेंस है। पहली वाली condition मे वह नेगेटिव attitude रखता है तो उसे सब नेगेटिव ही दिखता है जिससे वह बहुत उदास हो जाता है और बहुत ज्यादा upset हो जाता है पर दूसरी कंडीशन same है पर इस बार उसका attidude possitive है जिससे सब पोसिटिव होता है और वह अपना बिज़नस फिर से शुरू कर पाता है तो दोस्तों हमारे अन्दर असीमित क्षमता होती है  बस हमें खुद पर विश्वाश होना चाहिए हम खुद पर कितना विश्वाश है यही point हमें दूसरों से अलग बनाता है जिंदिगी मे परेशानियां आती रहती है पर जिंदगी मे सफल व्यक्ति वही होता है जो मुश्किलों मे बिखरता नही निखर जाता है
                   दोस्तों यदि आप को कहानी पसन्द आयी हो तो शेयर करें कोई सुझाव हो तो कमेंट के माध्यम से हहमें जरूर बताएं ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …