सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Safalta ke niyam....

                                      Safalta ke niyam



   सफलता के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों को follow करना होता है हर व्यक्ति जीवन मे सफल होना चाहता है पर कुछ ही लोग ऐसा कर पाते हैं क्योंकि bahut कम लोगो को सफलता के नियम पता होते है भौतिकी के नियम की तरह सफलता के भी नियम होते हैं आज जो सफल व्यक्ति हैं उन्होंने कहीं न कहीं न कहीं किसी न किसी रूप मे इन नियम को जरूर फॉलो किया है आज मै गौरव आप के साथ सफलता के नियम share कर रहा हूँ मुझे विश्वाश है कि ये नियम आप को सफलता प्राप्त करने मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगें।



1.law of aim----:



  यह सफलता प्राप्त करने का सबसे महत्वपूर्ण law है एक minute सोचिये की आप को कहीं जाना है पर आप को ये नही पता की कहाँ जाना है तो आप कहाँ पहुँचोगे कहीं भी नहीं पहुँच पयोगे या फिर कहीं भी पहुँच जाओगे एक minute सोचिये की आप को delhi जाना है अब आप कहाँ पहुँचोगे genral सी बात है delhi ही पहुँचोगे यह छोटी सी बात है पर समझों तो यह बताती है कि यदि हमको पता हो की कहाँ जाना है तो हम निश्चित ही वही पहुँचते है जहां हमे जाना है आप को जानकर हैरानी होगी की 80-90% लोगों को यही नही पता होता कि उनको जिंदगी मे करना क्या है कहाँ पहुँचना है यकीन मानिए यदि आप ने यह निश्चित कर लिया कि आपको जिंदगी मे कहाँ जाना है क्या हासिल करना है तो मे गारन्टी देता हूं कि आप 100% वहां पहुँच जायेगे उस सफलता को प्राप्त कर लेंगे तो दोस्तों सफलता प्राप्त करने के लिए अपना एक निश्चित gaol सेट करें। जितने भी सफल व्यक्ति है उनके बीच ये common चीज है कि उन सब को पता था कि उन्हें क्या करना है अपनी लाइफ मे goal कैसे सेट करें अपनी लाइफ मे यह जानने के लिए मेरी अगली पोस्ट जरूर पढ़े         
   



2.law of focusing goal--: 



एक बार goal सेट करने के बाद उस goal पर फोकस करना बहुत जरूरी होता है यदि आप ने gaol तो सेट कर लिया पर उस पर ध्यान नही दे रहे तो दोस्तों कुछ नही हो सकता एक बार gaol सेट करने के बाद हमारा पूरा ध्यान हमारे goal पर होना चाहिए हम रात दिन हमारा goal दिखना चाहिए वैसे ही जैसे अर्जुन को चिड़िया की आँख ही दिख रही थी जब उनके गुरु ने अर्जुन को चिड़िया के आँख मे निशाना लगाने के लिए बोला हालात कैसे ही हो पर हमारा ध्यान हमेशा हमारे goal पर होना चाहिए।


3.law of hardworking--: 



 यदि आपने अपना goal भी सेट कर लिया उस पर फोकस भी है फिर भी आप अपने लक्ष्य को जब तक नही पा सकते जब तक की उसके लिए कड़ी मेहनत न करें एक munite सोचिये की आप को खाना खाना है आप ने सोच भी लिया उस पर पूरा ध्यान भी है पर क्या खाना अपने आप बन जायेगा नही न same condition होती है  जब हम कोई goal तो सेट कर लेते हैं पर hard work नही करना चाहते सोचिये यदि धीरू भाई ambhani ने सिर्फ सोचा होता और उसके लिए हार्ड वर्किं नही की होती तो क्या उनका नाम आज देश का हर एक बंदा जानता नही न तो दोस्तों सोच को परिणाम मे convert करने के लिए hard working बहुत जरुरी है इसके बिना लक्ष्य प्राप्त करने की प्रायिकता लगभग शुन्य होती है ज्यादातर व्यक्ति इसलिए असफल होते है क्योंकि वो अपने goal को achieve करने के लिए उतने effort नही देते जितने की उस goal को achieve करने के लिए आवश्यक है मान लीजिए की आपको कोई टेबल उठानी है तो आपको उतना बल लगाना आवश्यक है जितना की उस टेबल को उठाने के लिए आवश्यक है वैसे ही सफलता प्राप्त करने के लिए इतने input देना आवश्यक है जितने की उस सफलता के लिए आवश्यक है उससे कम effort हैं तो आप सफलता प्राप्त नही कर सकते तो दोस्तों यदि आप किसी काम मे असफल हो रहें हैं तो सिंपल सा मतलब है कि आप आवश्यक effort नहीं लगा रहे यकीन मानिए जब आवश्यक हार्ड वर्किंग करेंगे तो दुनिया मे ऐसी कोई वास्तु या लक्ष्य नही जिसे आप प्राप्त न कर सकें पर आप को हार्ड वर्किंग करनी ही पड़ेगी ऐसे बचने का कोई दूसरा उपाय नहीं।

4.law of avoide nagativity--:  


सफलता के नियम का यह 4th नियम है यदि आप को सच मे कोई बढ़ा goal achieve करना है तो नकारात्मक विचारों से बचना होगा आप के आसपास ऐसे बहुत लोग होंगे जो आपका मजाक udayege आप को कमजोर साबित किया जायेगा आप को बोला जायेगा की आप ऐसा कभी नही कर सकते आप को काफी सारे example दिए जायेंगे ज्यादातर ऐसे लोग ही मिलेंगे जो आपका मनोबल तोड़ेंगे ये लोग आप के दोस्त रिश्तेदार पडोसी कोई भी हो सकता है तो ऐसे मे स्वाभाविक है कि अच्छे अच्छे व्यक्ति का भी मनोबल टूट जाएगा पर आप को हार नही माननी आपको सिद्ध करना होगा की आप सही थे और वो गलत ऐसे लोगो की बातों को ज्यादा serious लेने की जरूरत नहीं क्योंकि जब आप सफल होंगे तब इनके विचार बदल जाएंगे ज्यादातर व्यक्ति इसलिए कोई बड़ा काम नही कर पाते क्योंकि उनके आस पास वाले व्यक्ति उन मे इतनी नकारात्मकता भर देते हैं कि वो अपने बारे मे वैसा ही सोचने लगते हैं जैसा की दूसरे लोग सोचते हैं लेकिन आप को यदि सफलता प्राप्त करनी है तो ऐसे लोगो से थोड़ी दूरी बनानी आवश्यक है ऐसे लोगो से दोस्ती करें जो आपको support करे और आप उन लोगो के बारे मे सोचें जिन्होंने विपरीत condition मे भी बड़े से बड़े goal achieve किये ये जरूर सोचें कि यदि वो कर सकतें हैं तो आप भी सकतें हैं ।
         
         दोस्तों मुझे पूरा विश्वाश है कि यदि कोई भी व्यक्ति इन 4 law को ईमानदारी से फॉलो करता है तो कोई भी goal अपनी जिंदगी मे achieve कर सकता है जो व्यक्ति आज बहुत सफल है वो हमारे ही बीच से है किसी दूसरे गृह से नही आये यदि वो कर सकतें हैं तो आप भी कर सकतें है आप को भी उतनी ही हार्ड वर्किंग करनी पड़ेगी जितनी उन्होंने की यदि आपको पोस्ट अच्छी लगी तो शेयर और comment जरूर करें।
                                       Writer-gaurav rajpoot

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …