सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जीत आपकी होगी........



जीत आपकी होगी



Hi दोस्तों पहले तो आप सभी का धन्यवाद देना चाहता हूँ क्योंकि आपके सभी के प्यार के कारण www.inhindistory.com ने बहुत ही कम समय मे काफी अच्छी growth की है।
         
        अब ज्यादा time न लेते हुए आज के टॉपिक पर आता हूँ दोस्तों  यदि सच्ची लगन हो   और उसके लिये कड़ी मेहनत की जाये तो जीत आपकी होगी कितनी भी मुश्किलें आयें फिर भी आप मैदान नही छोड़ते तो यकीन मानिए जीत आपकी ही होगी हालात बदसे बदतर हो जाएं सभी कहने लगे की तुझ से नही हो पायेगा तुमको भी लगने लगे की ये नही हो पायेगा फिर भी यदि आपके अंदर कहीं से आवाज आये की i do it तो यकीन मानिए जनाब आप बहुत special हो आप हजारों लाखों से अलग हो और जीत आपकी पक्की है । ऐसे ही एक बन्दे की real स्टोरी शेयर कर रहा हु जो लाखो युवाओं का real hero है........
         
   विजय शेखर .... paytm founder


Paytm के बारे मे तो आप सभी जानते होंगे पर इसके फाउंडर विजय शेखर शर्मा के बारे मे बहुत ही कम लोग जानते हैं । विजय शेखर शर्मा का जन्म 8 जुलाई 1973 को up के अलीगढ़ जिले के एक गाँव विजयगढ़ मे हुआ था। midle क्लास परिवार में जन्मे विजय शेखर के पिताजी एक ईमानदार स्कूल टीचर थे और माँ simple हाउस वाइफ। विजय शेखर ने हिंदी medim स्कूल से 12th तक की पढ़ाई पूरी की जब वो delhi कॉलेज ऑफ engineering से इंजीनियरिंग करने लगे तो english weak होने के कारण उन्हें बहुत परेशानी होती थी कुछ अच्छे से समझ नहीं आता था इस कारण वो क्लास से bunk मारने लगे एक समय ऐसा भी आया जो उनको लगने लगा की वो अपनी पढ़ाई पूरी नही कर पायेंगे और उनके मन मे घर बापस लौट जाने का ख्याल आने लगा लेकिन पर घर वालो की उम्मीदों को ऐसे नहीं तोडना चाहते थे इसलिये उन्होंने निर्णय लिया की वो अपनी इंग्लिश strong करेंगे । कहते हैं न जहाँ चाहे वहाँ राह यदि कोई बस था ठान ले की उसे वो करना है तो दुनिया मे कोई भी चीज असम्भव नहीं है । विजय शेखर ने अपनी इंग्लिश स्ट्रांग करने और टॉपिक को समझने के लिए एक मस्त योजना बनाई वो बाजार से book के दो version खरीदते एक हिंदी मे और उसी का इंग्लिश translation इस तरह हिंद मे टॉपिक को समझते और फिर इंग्लिश में ट्रांसलेशन पढ़ लेते 
                    

हर कोई बन्दा रुपए कमाने के बारे मे सोचता है रुपए कमाने के दो ही रास्ते होते हैं first तरीका खुद का कुछ बिज़नेस स्टार्ट कर लो और second किसी दूसरे के बिज़नेस को ज्वाइन कर लो मतलब job(join other business) दूसरे का काम करो जिसके बदले मे वो आपको कुछ sallary देगा और आपको बता दू की ये सैलरी वो खुद नहीं देता बल्कि जब बन्दा उसे 100000 का काम करके देगा तब उसी मे से 15 या 20 हजार sallary उस बन्दे को प्राप्त होगी ।इसलिए ऐसे बोलते हैं नौकरी रुपए कमाने का ये तरीका hot febrate है 80 -90% लोग सेकंड तरीके को ही अपनाना चाहते हैं लेकिन विजय शेखर उन 10% लोगो मे से थे जो first तरीके को बेस्ट मानते हैं जिन्हें अपना काम किसी के under करने की आदत नही होती जो अपनी मर्जी के मालिक बनना पसन्द करते हैं जो लोग कुछ अलग करना चाहते हैं अपनी एक अलग पहचान बनाना चाहते हैं विजय शेखर yahoo के founder सबीर भाटिया की तरह internet क्षेत्र मे कुछ अलग करना चाहते थे इसलिये collage टाइम में ही जो खली समय मिलता था उसमें book पढ़-पढ़ कर coading सीखी और एक content मैनेजमेंट सिस्टम तैयार किया जिससे बहुत सारे अख़बार वाले use करते हैं।


                    विजय शेखर ने अपने engineering के 3rd year मे अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक कंपनी स्टार्ट की जिस का नाम रखा XS विजय शेखर ने इस कंपनी को 5लाख डॉलर मे lotus नेटवर्क को बेंच थी और उसी मे जॉब करने लगे पर उन्हें किसी के under काम करना पसंद नही आया और उन्होंने जॉब छोड़ दी
                   

                    जॉब छोड़ने के बाद विजय शेखर ने एक नई company की स्थापना की one 97 की पर ये कंपनी बुरी तरह फ्लॉप हो गई विजय शेखर के partners ने उनका साथ छोड़ दिया विजय शेखर रोड पर आ गए उनकी माली हालत इतने ख़राब हो गए की वो सारा सारा दिन बिना कुछ खाये सिर्फ चाय पीकर ही गुजर देते थे ।ऐसे मे कोई और होता तो हालात के सामने घुटने टेक देता पर विजय शेखर ने हार नही मानी । ऐसी समय बाजार मे स्मार्टफोन आने लगे तब विजय शेखर के दिमाग मे cash less ट्रांसिक्शन का idea आया और उन्होंने 2001 मे paytm की स्थापना की जो आज 15 हजार करोड़ से भी अधिक की कंपनी है विजय शेखर को  इंडियाज़ हॉटेस्ट लीडर अंडर 40 के लिए इकोनॉमिक्स टाइम ने चुना विजय शेखर ने बता दिया की मिडिल क्लास का कोई भी बन्दा milinior बन सकता है ।आज हजारो युवा विजय शेखर को अपना रोल मॉडल मानते है बस अंत मे इतना ही कहुगा की
       

           "हालात के सामने घुटने मत टेको बल्कि हालात को अपने सामने घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दो"
    
    यदि आपको पोस्ट पसन्द आये तो शेयर करें like करें,कमेंट करें और अपने दोस्तों को www.inhindistory.com के बारे मे बताना न भूलें।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …