सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

self confidence kaise badhaye in hindi

self confidence kaise badhaye in hindi



self confidence kaise badhaye in hindi जिंदगी को भरपूर जीने की बात हो या फिर जिंदगी में सफल होने की दोनों के लिये ही self confidence की बहुत जरुरत होती है। यदि हम किसी भी कार्य को फुल confidece से करते हैं तो उस कार्य में सफल होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है। किसी भी सफल व्यक्ति जैसे कोई बड़ा खिलाड़ी, अभिनेता या business मेन या फिर कोई बढ़ा नेता हो सभी में एक चीज कामन होती है । वह है उनका self confidence एक सोलह साल का लड़का पहली बार international cricket  खेलता है और आगे चलकर 100 शतक लगा कर विश्व कीर्तिमान स्थापित कर देता है तो कोई बल्ब का अविष्कार कर दुनिया को रोशन कर देता है । इसका एक मात्र कारण उनका सेल्फ confidence था। 

क्या है selfconfidence :-


अपने आप पर विश्वाश होना की मैं ये कार्य कर सकता हूँ। अपनी योग्यता पर विश्वाश करना self confidence कहलाता है। कैसी भी परिस्थिति हो उस सामना करने की योग्यता selfconfidence , जब दूसारा बन्दा कर सकता है तो मैं भी कर सकता हूँ self confidence , घनघोर निराशा के अंधेरे में उम्मीद की किरण selfconfidence , जब सब बोले की तुझ से न हो पायेगा तब अंदर से आवाज देने वाला की तुझ से जरूर होगा selfconfidece
self confidence kaise badhaye in hindi, atmavishvas
Self confidence in hindi








Self confidence badhane ki tip :-


1. स्वयं को दूसरों से कम आँकना बन्द करें :- 

ज्यादातर हम अपने आपको दूसरों से कम समझने लगते जैसे उसे तो बहुत अच्छा गणित आता है मैं तो बहुत कमजोर हूँ गणित में, वह मुझ से ज्यादा हुशियार है , मैं बहुत दुबला हूँ, मैं ये कार्य नही कर सकता , यदि आप ऐसे करते हो तो आपका self confidence कम है। अतः आज से ही अपने अपने आपको दूसरों से कम न समझे आपके पास भी वो सब है जो सामने वाले के पास है बस आपका selfconfidence low है जो आपको कमजोर बना रहा है। 

2. Motivational quote , story पढें :- 

स्वयं को मोटिवेट रखने की के लिए मोटिवेशनल कहानी, quote, आर्टिकल पढ़ें । यह आपके selfconfidence को यकीनन बढ़ाएगा।

3. Excersice करें :- 

रात को देर रात तक न जागें । सुबह जल्दी उठकर व्यायाम जरूर करें यह आपको दिन भर तरोताजा रखेगा और आप बहुत अच्छा महसूस करेंगे।

4. स्वयं को positive रखें :-

दिन भर में हमारे दिमाग में 60000 से भी अधिक विचार आते है जिनमे ज्यादातर नेगेटिव होते हैं । इस स्थिति में स्वयं को पॉजिटिव रखना बहुत जरुरी हो जाता है। ऐसे व्यक्तियों से दोस्ती करें जो आपको सपोर्ट करते हो । जहां तक हो सके वहां तक नेगेटिव बात करने वालो से दूर ही रहें।

5. अपने ज्ञान को बढ़ाएं:-

अपने ज्ञान को बढ़ाते रहे इससे आपका self confidence जरूर बढेगा। ऐसा करने के लिए आप पुस्तक पड़ सकतें है , ज्ञानवर्धक ब्लॉग पढ़ सकते हैं youtube पर ज्ञानवर्धक वीडियो भी देख सकते हैं।

6. अच्छी ड्रेसिंग :-

परिस्थिति के अनुसार आपकी ड्रेसिंग होना बहुत जरुरी है। जैसे यदि आप ऑफिस जाते हैं तो फॉर्मल ड्रेस पहनें । यह आपके कॉन्फिडेंस को इम्प्रूव करेगा।

7. Question पूछिये :-

दोस्तों यदि अपको किसी subject के बारे में नही पता तो बिहिचक सवाल पूछिये । इससे आपका knowledge तो बढेगा ही साथ ही साथ सामने वाले व्यक्ति की नजरों में भी आपकी इज्जत बढ़ेगी। 

8. Eye contact:- 

इस सेल्फ confidence के लिए बहुत ही आवश्यक है कि आप सामने वाले व्यक्ति से eye contact मिलाकर ही बात करें। कभी भी ऑंखें न चुराएं । अगर आप आँखे चुरा रहे इसका सीधा मतलब है कि आप में face करने की शक्ति नही है। जब आप eye contact मिलाकर बात करते है तो इस से आपका self confidence तो बढ़ता ही है साथ साथ सामने वाले व्यक्ति पर भी आपका अच्छा प्रभाव पड़ता है।

9. छोटे छोटे goal बनायें और उन्हें achieve करें :-

दोस्तों बढे गोल बनाने और उनको achieve करने में काफी टाइम और धैर्य की आवश्यकता होती है । कभी कभी टाइम ज्यादा लगने के कारण हम बोर हो जाते है और अपने गोल को छोड़ देते हैं। इसलिए हम रोज छोटे छोटे गोल निर्धारित करना चाहिए और रोज उनको achive करने की पूरी कोशिश करनी चाहिए। जब हम अपना गोल अचीव करते है तो एक अलग प्रकार की ख़ुशी महसूस होती है। जो की हमारे confidence को बहुत बड़ा देती है। बढे गोल को छोटे छोटे गोल में बाँट कर अचीव करें।

10. समय प्रबंधन:-

हर कार्य के लिए एक निश्चित समय निर्धारित करें और उस कार्य को उस निर्धारित समय में पूरा करने की कोशिश करें। आज का कार्य कल पर टालने की आदत छोड़ दे क्योंकि इस से दूसरे दिन कार्य का बोझ बढ़ जाता है साथ ही इतने सारे कार्य को एक साथ करने से उस कार्य की quality पर भी प्रभाव पड़ता है। और जब आप समय पर कार्य पूरा नही कर पाते तो आपका confidence भी कम हो जाता है। so अपने कार्य को समय पर पूरा करने की आदत डालें।

11. जिस कार्य को करने में डर लगता है उससे बार बार कीजिये:-

जिस कार्य को करने में आपको डर लगता है उसे जरूर बार बार करें यह एक मात्र तरीका है जिससे आप उस कार्य को क्र सकते हो। यदि आपको पानी से डर लगता है तो जरूर पानी में जाएं और तैरना सीखें । रोज प्रैक्टिस करें और कुछ ही दिनों में आप तैरना सिख जाएंगे। अब एक मिनिट सोचिये की आप यूँही डरते रहे और पानी में न जाएं तो तैरना सिख सकते हैं क्या नही न। तो अपने डर को दूर कीजिये और इसका तरीका है
"किसी कार्य को करने में आपको डर लगता है, इस डर को दूर करने का एक मात्र तरीका है कि आप उस कार्य को बार बार करें।"

12. खुश रहें:-

समस्याएं तो जिंदगी के बाद ही खत्म होती है। इसलिए हमेशा खुश रहें जब आप खुश रहते हो तो इसका आपके आस पास रहने वाले लोगो पर भी positive प्रभाव पड़ता है और आप एक खुशनुमा वातावरण का निर्माण करते हो। किसी से भी बात करें तो हमेशा मुस्कुरा के करें।
" दुःखी होने से आज तक कोई भी समस्या दूर नही हुई है इसलिए मुस्कुराये"
Selfconfidence-in-hindi, self confidence badhane








                    दोस्तों इन टिप्स को अपना कर आप अपना सेफ confidence कभी हद तक बढ़ा सकते हो। उम्मीद करता हूँ की ये पोस्ट आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद करेगी । यदि पोस्ट पसंद आये तो शेयर जरूर करें ।
All The best

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …