सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

shubhash chandra bos 123rd birth anniversary

shubhash chandra bos 123rd birth anniversary :-

shubhash chandra bos 123rd birth anniversary, quote in hindi


आज पूरा देश 23rd जनवरी 2020 को शुभाष चंद्र बोस की 123rd birth anniversary  मना रहा है। 
सुभाष चंद्र का जन्म 23 jan 1897 में cuttack odisa में हुआ और 18 aug 1945 को नेताजी का स्वर्गवास एक विमान दुर्घटना के कारण हो गया।
देश की आजादी में शुभाष चंद्र बोस का अतुलनीय योगदान रहा। लोग उन्हें प्यार से नेताजी कहकर बुलाते थे।  वह 1938 से 1939 तक indian national congress के president रहे। 21 oct 1943 को नेताजी ने आजाद हिंद फौज का गठन किया। शुभाष चंद्र का प्रसिद्ध qoute था 

"तुम मुझे खून दो , मैं तुम्हे आजादी दूँगा।"

                                    शुभाष चंद्र बोस 

शुभाष चंद्र बोस के लिए लिखी गई प्रसिद्ध कविता:-

नेताजी का तुला दान


देखा पूरब में आज सुबह,
एक नई रोशनी फूटी थी।
एक नई किरन, ले नया संदेशा,
अग्निबान-सी छूटी थी॥

एक नई हवा ले नया राग,
कुछ गुन-गुन करती आती थी।
आज़ाद परिन्दों की टोली,
एक नई दिशा में जाती थी॥

एक नई कली चटकी इस दिन,
रौनक उपवन में आई थी।
एक नया जोश, एक नई ताज़गी, 
हर चेहरे पर छाई थी॥

नेताजी का था जन्मदिवस,
उल्लास न आज समाता था।
सिंगापुर का कोना-कोना, 
मस्ती में भीगा जाता था।

हर गली, हाट, चौराहे पर,
जनता ने द्वार सजाए थे।
हर घर में मंगलाचार खुशी के, 
बांटे गए बधाए थे॥

पंजाबी वीर रमणियों ने,
बदले सलवार पुराने थे। 
थे नए दुपट्टे, नई खुशी में,
गये नये तराने थे॥

वे गोल बांधकर बैठ गईं, 
ढोलक-मंजीर बजाती थीं।
हीर-रांझा को छोड़ आज,
वे गीत पठानी गाती थीं।

गुजराती बहनें खड़ी हुईं,
गरबा की नई तैयारी में।
मानो वसन्त ही आया हो,
सिंगापुर की फुलवारी में॥

महाराष्ट्र-नन्दिनी बहनों ने, 
इकतारा आज बजाया था। 
स्वामी समर्थ के शब्दों को, 
गीतों में गति से गाया था॥

वे बंगवासिनी, वीर-बहूटी,
फूली नहीं समाती थीं। 
अंचल गर्दन में डाल, 
इष्ट के सम्मुख शीश झुकाती थीं-

“प्यारा सुभाष चिरंजीवी हो, 
हो जन्मभूमि, जननी स्वतंत्र! 
मां कात्यायिनि ऐसा वर दो, 
भारत में फैले प्रजातंत्र!!”

हर कण्ठ-कण्ठ से शब्द यही,
सर्वत्र सुनाई देते थे। 
सिंगापुर के नर-नारि आज, 
उल्लसित दिखाई देते थे॥

उस दिन सुभाष सेनापति ने, 
कौमी झण्डा फहराया था। 
उस दिन परेड में सेना ने, 
फौजी सैल्यूट बजाया था॥

उस दिन सारे सिंगापुर में, 
स्वागत की नई तैयारी थी। 
था तुलादान नेताजी का,
लोगों में चर्चा भारी थी ॥

उस रोज तिरंगे फूलों की, 
एक तुला सामने आई थी॥ 
उस रोज तुला ने सचमुच ही, 
एक ऐसी शक्ति उठाई थी-

जो अतुल, नहीं तुल सकती थी,
दुनिया की किसी तराजू से! 
जो ठोस, सिर्फ बस ठोस,
जिसे देखो चाहे जिस बाजू से!!

वह महाशक्ति सीमित होकर, 
पलड़े में आन विराजी थी।
दूसरी ओर सोना-चांदी, 
रत्नों की लगती बाजी थी॥

उस मन्त्रपूत मुद मंडप में,
सुमधुर शंख-ध्वनि छाई थी। 
जब कुन्दन-सी काया सुभाष की,
पलड़े में मुस्काई थी॥

एक वृद्धा का धन सर्वप्रथम,
उस धर्म-तुला पर आया था। 
सोने की ईटों में जिसने,
अपना सर्वस्व चढ़ाया था॥

गुजराती मां की पांच ईंट,
मानो पलड़े में आईं थीं। 
या पंचयज्ञ से हो प्रसन्न, 
कमला ही वहां समाई थीं!!

फिर क्या था, एक-एक करके, 
आभूषण उतरे आते थे। 
वे आत्मदान के साथ-साथ, 
पलड़े पर चढ़ते जाते थे॥

मुंदरी आई, छल्ले आए, 
जो पी की प्रेम-निशानी थे। 
कंगन आए, बाजू आए,
जो रस की स्वयं कहानी थे॥

आ गया हार, ले जीत स्वयं, 
माला ने बन्धन छोड़ा था। 
ललनाओं ने परवशता की,
जंजीरों को धर तोड़ा था॥

आ गईं मूर्तियां मन्दिर की,
कुछ फूलदान, टिक्के आए। 
तलवारों की मूठें आईं, 
कुछ सोने के सिक्के आए॥

कुछ तुलादान के लिए, 
युवतियों ने आभूषण छोड़े थे। 
जर्जर वृद्धाओं ने भेजे, 
अपने सोने के तोड़े थे॥

छोटी-छोटी कन्याओं ने भी, 
करणफूल दे डाले थे। 
ताबीज गले से उतरे थे, 
कानों से उतरे बाले थे॥

प्रति आभूषण के साथ-साथ, 
एक नई कहानी आती थी। 
रोमांच नया, उदगार नया, 
पलड़े में भरती जाती थी॥

नस-नस में हिन्दुस्तानी की, 
बलिदान आज बल खाता था। 
सोना-चांदी, हीरा-पन्ना, 
सब उसको तुच्छ दिखाता था॥

अब चीर गुलामी का कोहरा, 
एक नई किरण जो आई थी।
उसने भारत की युग-युग से, 
यह सोई जाति जगाई थी॥

लोगों ने अपना धन-सरबस, 
पलड़े पर आज चढ़ाया था। 
पर वजन अभी पूरा नहीं हुआ, 
कांटा न बीच में आया था॥

तो पास खड़ी सुन्दरियों ने, 
कानों के कुण्डल खोल दिए। 
हाथों के कंगन खोल दिए, 
जूड़ों के पिन अनमोल दिए॥

एक सुन्दर सुघड़ कलाई की,
खुल 'रिस्टवाच' भी आई थी। 
पर नहीं तराजू की डण्डी, 
कांटे को सम पर लाई थी॥

कोने में तभी सिसकियों की, 
देखा आवाज़ सुनाई दी। 
कप्तान लक्ष्मी लिए एक,
तरुणी को साथ दिखाई दी॥

उसका जूड़ा था खुला हुआ, 
आंखें सूजी थीं लाल-लाल! 
इसके पति को युद्ध-स्थल में, 
कल निगल गया था कठिन काल!!

नेताजी ने टोपी उतार, 
उस महिला का सम्मान किया। 
जिसने अपने प्यारे पति को, 
आज़ादी पर कुर्बान किया॥

महिला के कम्पित हाथों से, 
पलड़े में शीशफूल आया! 
सौभाग्य चिह्‌न के आते ही, 
कांटा सहमा, कुछ थर्राया!

दर्शक जनता की आंखों में,
आंसू छल-छल कर आए थे। 
बाबू सुभाष ने रुद्ध कण्ठ से, 
यूं कुछ बोल सुनाए थे-

“हे बहन, देवता तरसेंगे, 
तेरे पुनीत पद-वन्दन को। 
हम भारतवासी याद रखेंगे, 
तेरे करुणा-क्रन्दन को!!

पर पलड़ा अभी अधूरा था, 
सौभाग्य-चिह्‌न को पाकर भी। 
थी स्वर्ण-राशि में अभी कमी, 
इतना बेहद ग़म खाकर भी॥

पर, वृद्धा एक तभी आई, 
जर्जर तन में अकुलाती-सी। 
अपनी छाती से लगा एक, 
सुन्दर-चित्र छिपाती-सी॥

बोली, “अपने इकलौते का, 
मैं चित्र साथ में लाई हूं। 
नेताजी, लो सर्वस्व मेरा, 
मैं बहुत दूर से आई हूं॥ “

वृद्धा ने दी तस्वीर पटक, 
शीशा चरमर कर चूर हुआ! 
वह स्वर्ण-चौखटा निकल आप, 
उसमें से खुद ही दूर हुआ!!

वह क्रुद्ध सिंहनी-सी बोली, 
“बेटे ने फांसी खाई थी! 
उसने माता के दूध-कोख को, 
कालिख नहीं लगाई थी!! 
हां, इतना गम है, अगर कहीं, 
यदि एक पुत्र भी पाती मैं! 
तो उसको भी अपनी भारत-
माता की भेंट चढ़ाती मैं!!”

इन शब्दों के ही साथ-साथ, 
चौखटा तुला पर आया था! 
हो गई तुला समतल, कांटा, 
झुक गया, नहीं टिक पाया था!!

बाबू सुभाष उठ खड़े हुए, 
वृद्धा के चरणों को छूते!
बोले, “मां, मैं कृतकृत्य हुआ, 
तुझ-सी माताओं के बूते!!

है कौन आज जो कहता है, 
दुश्मन बरबाद नहीं होगा! 
है कौन आज जो कहता है, 
भारत आज़ाद नहीं होगा!!”


 भारत माता के ऐसे वीर सपूत को लाखों बार नमन।
जय हिंद जय भारत।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …