सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी

Hi दोस्तों स्वागत है आपका inhindistory पर
आज आपके लिए एक बहुत ही शिक्षाप्रद स्टोरी लेकर आये हैं
उम्मीद है आपको काफी पसंद आएगी ।

  पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी


Hindi-stories


बहुत समय की बात है एक गाँव मे शिवपाल नाम का एक युवक रहता था । उसकी माँ की death हो गयी तो उसके बाप ने दूसरी शादी कर ली । सौतेली माँ शिवपाल पर बहुत जुल्म करती थी। उसको खाना भी जो बच जाता वो ही मिलता । और घर के सारे काम भी शिवपाल ही करता था। काम करने में कुछ गलती हो जाती तो उसकी सौतेली माँ उसको बहुत मरती थी । इन सारे गम को और अपनी सारी समस्याओं को शिवपाल गाँव एक बूढ़े को बताता जिस उसको कुछ तसल्ली मिलती । वह बूढ़ा व्यक्ति भी शिवपाल को काफी चाहता था । वह शिवपाल को समझता और बहुत सारी ज्ञान की बातें बताता । शिवपाल भी उस बूढ़े व्यक्ति के पास जाकर अपने सारे गम भूल जाता। 
 एक दिन शिवपाल एक पोटली के साथ बूढ़े के पास पहुँचा और बोला बाबा आज इस गाँव से मेरा दान पानी उठ गया । अब मे इस गाँव को छोड़कर जा रहा हूँ। अब मुझ से माँ की गाली और बरदास्त नही होती हैं।
बूढ़े ने बोला :-  बेटा और अच्छे से सोच लो इस अजनवी दुनिया में कहाँ जायोगे ।
शिवपाल :- कहीं भी चला जाऊँगा पर अब यहाँ नही रहूँगा।

बूढ़े ने जब यह जान लिया की अब शिवपाल मानेगा नही तो बोला बेटा जा रहे हो तो जाओ पर कहीं भी रहो । मेरी ये पाँच बातें हमेशा याद रखना 
1. जो तुम्हारा भला करे उसकी हर बात मनो।
2. किसी के दिल दुखाने वाली बात काफी मत करो ।
3 अपने कार्य को ईमानदारी से करो।
4. जिसने तुम्हारा भला उसका बुरा कभी मत करो।
5. जहाँ ज्ञान की बातें मिलें उन्हें जरूर सुनो।

शिवपाल ने बूढ़े की पाँचों बातों को ध्यान से सुना और वादा की की वह अपने जीवन में उनको जरूर अमल में लायेगा । 
इस प्रकार शिवपाल बूढ़े व्यक्ति से विदा लेकर चल पड़ा । 
चलते चलते वह एक शहर में पहूँचा । उसे काम की जरुरत थी किसी ने बताया कि यहाँ के राजा का एक मंत्री है  उसे एक नौकर की आवश्यकता है । शिवपाल उस मंत्री से मिला मंत्री ने शिवपाल को देखा और और पूछा बताओ तुम क्या कार्य कर सकते हो । शिवपाल ने जवाब दिया जो कोई न कर सके वो कार्य में करूँगा । मंत्री ने शिवपाल को अपने यहाँ काम पर रख लिया।

एक बार राजा शिकार के लिए जा रहा था तो मंत्री न शिवपाल को भी साथ रख लिया । शिकार खेलते खेलते राजा एक बहुत ही वीरान क्षेत्र में पहुँच गया । राजा के साथ और भी बहुत सारे लोग थे । सभी को काफी प्यास लगी थी । पर चारो तरफ पानी का कोई नामों निशान भी नही था । राजा और उसके सभी सैनिक और साथी प्यास से व्याकुल हो रहे थे । साथ ही घोडा और हाथी को भी प्यास लगी थी और उनकी हालत ऐसी नही थी की वो आगे जा सके । तभी राजा ने सैनिकों से कहा जाओ पता लगाओ शायद आस पास कोई गाँव हो । तो वहाँ के मुखिया को लेकर आओ । सैनिक गाँव की तलाश करने लगे और सौभाग्य से एक छोटा सा गाँव मिल भी गया सैनिक उस गाँव के मुखिया को लेकर राजा के पास गए। राजा ने मुखिया से कहा जल्दी हमारे लिए जल की व्यवस्था करो हम और हमारे हाथी घोड़े प्यास से बहुत व्याकुल हैं। मुखिया ने हाथ जोड़कर कहा महाराज हमारे एक में बस छोटा सा कुआँ है। उससे हम गाँव वालों का ही गुजारा बहुत मुश्किल से होता है । आप सबके लिए वहाँ पर्याप्त पानी की व्यवस्था नही हो पायेगी । पर अगर कोई हिम्मत करे तो यहाँ एक पुरानी बाबड़ी है जिसमे बहुत सारा पानी है । पर वहाँ एक दैत्य का निवास है। आज तक जो भी वहाँ गया है लौटकर नही आया । राजा ने मुखिया की बात सुनकर सैनिकों से कहा जाओ उस पुरानी बाबड़ी से पानी लेकर आओ । पर किसी भी सैनिक की हिम्मत नही हुए जाने की तभी मंत्री ने शिवपाल को बोला तुम जाओ और पानी लेकर आओ। शिवपाल मंत्री को जाने से मना करने ही वाला था कि उसे बूढ़े की पहली बात याद आ गयी।
" जो तुम्हारा भला करे उसकी हर बात मनो।"
शिवपाल ने जाने के लिये हाँ कर दी और वह दो मटके लेकर बाबड़ी से पानी लेने के लिए चल दिया।
कुछ देर में ही वह बाबड़ी के पास पहुँच गया बाबड़ी में पानी तक पहुँचने के लिए सीढ़ियां बनी हुए थी। नीचे काफी अँधेरा था । शिवपाल ने हिम्मत क्र सीढ़ियों से नीचे उतरना प्रारम्भ किया और पानी तक पहुँच गया। उसको भी बहुत प्यास लगी थी और बाबड़ी का जल बहुत ही शीतल था तो पहले शिवपाल ने मन भर कर पानी पिया फिर दोनों मटको को भर कर जैसे ही मुड़ा उसके सामने एक दैत्याकार व्यक्ति खड़ा था और वह अपने सीने से एक हड्डियों के ढांचे को चिपकाये हुए था । वह , शिवपाल से गरजकर बोला बताओ युवक मेरी बीवी कैसी है । शिवपाल ने देखा की दैत्य जिसको अपनी वीबी बोला रहा था । वह हड्डियों का ढांचा थी । शिवपाल उसकी पत्नी को हड्डियों का ढांचा बोलने ही बाला था कि उसे बूढ़े की दूसरी बात याद आ गयी की 
" किसी के भी दिल दुखाने वाली बात मत करो'

शिवपाल ने जवाब दिया अरे मैंने आज से पहले इतनी सुंदर स्त्री कभी देखी ही नही।

दैत्य शिवपाल का जवाब सुनकर बहुत खुश हुआ और बोला आज से पहले जितने भी लोग आए सबने मेरी पत्नी को हड्डी का ढांचा कहा और मैंने सबको मार दिया पर । तुम पहले व्यक्ति हो जिसने मेरी पत्नी को सुंदर कहा । मैं तुम से बहुत खुश हूं जो चाहो मुझ से माँग लो ।

शिवपाल ने कहा आप यदि मुझ से सचमुच खुश हैं तो इस बाबड़ी को छोड़कर चले जाइए जिससे लोग यहाँ अपनी प्यास बुझा सकें । दैत्य शिवपाल की बात मानकर चला जाता है । 
और शिवपाल भी मटकों में पानी लेकर राजा के पास पहुचता और सारी कहानी बता देता है। राजा शिवपाल से बहुत खुश होता है और उसे अपना वित्त मंत्री बना देता है । 

शिवपाल बूढ़े की तीसरी बात  " अपना काम ईमानदारी से करो।" को याद कर ईमानदारी से कम करता है।

राजा का एक भाई रहता है जो हमेशा खजाने से रुपए निकलता रहता था । पर जैसे ही शिवपाल वित्तमंत्री बना राजा के भाई अनावश्यक रूप से रुपए निकालने की दाल नही गल पा रही थी । उसने शिवपाल को लालच देने की कोशिश की पर शिवपाल नही माना । तो राजा के भाई ने कहा कि यदि तुम मेरा साथ दोगे तो में अपनी पुत्री का विवाह तुम से कर दूँगा । इतनी बड़ी बात सुनकर शिवपाल का ईमान डोलने लगता है पर उसी समय उसे बूढ़े की चौथी बात याद आ जाती है 
" जो भी तुम्हारा भला करे उसका कभी भी बुरा मत करो।"

इस बात को याद कर शिवपाल ने राजा के भाई को मना कर दिया । इससे राजा का भाई तिमिला जाता है और राजा के पास पहुँचकर राजा के कान भर देता है कि शिवपाल गद्दार है । राजा , अपने भाई की बातों में आ जाता है  और प्रतिज्ञा कर देता है कि जब तक वह शिवपाल का कटा हुआ सर नही देख लेता वह और उसका भाई भोजन को हाथ नही लगायें गे। ऐसी प्रतिज्ञा राजा चार कसाइयों को बुलाता है और उनसे बोलता है कि हमारा जो महल बन रहा है तुम वहाँ जाओ । आज एक व्यक्ति आयेगा और तुम से पूछेगा काम होने में कितनी देर है तुम उसका सिर काट देना। चारों कसाइयों के जाने के बाद राजा शिवपाल को बुलाता है और उससे बोलता है " शिवपाल तुम हमारे नए महल जाओ जो बन रहा है वहाँ चार लोग मिलेंगे उनसे पूछना की कम कितना बचा है।"

शिवपाल राजा की आज्ञा से महल की और चल देता है पर रास्ते में एक बहुत ही बड़े संत के प्रवचन हो रहे होते हैं तो शिवपाल को बूढ़े की पांचवी बात याद आ जाती है की

"जहाँ पर भी ज्ञान की बातें मिलें उन्हें ध्यान से सुनो।"

ये बात याद कर शिवपाल प्रवचन सुनने लगता है ।

यहाँ शाम होने को आती है पर शिवपाल के बारे में कोई खबर नही आती और राजा के भाई को बहुत भूख लगी होती है प्रतिज्ञा के कारण वह खाना नही खा सकता। राजा के भाई से अब बरदास्त नही होता वह स्वयं अपना सर को ढांक कर पता लगाने के लिए चल पड़ता है । और नए महल जा कर कसाईयों से पूछता है " काम कितना बचा है ।" 

कसाई जब ये सुनते हैं तो उनको लगता है कि ये वही है जिसका सर काटना है। चूँकि राजा का भाई अपना चेहरा छिपाकर रखे हुआ था । इसलिए कसाई पहचान नही पाते और राजा के भाई का सर धड़ से अलग कर देते हैं।

यहाँ जब राजा को असलियत का पता चलता है कि उसके भाई ने ही सडयंत्र रचा था क्योंकि शिवपाल राजा से गद्दारी करने से मना कर दिया था। तो राजा शिवपाल पर बहुत खुश होता है और अपनी पुत्री का विवाह शिवपाल से कर देता है



आपको यदि story पसंद आये तो शेयर करें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दूँगा ही स…

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi
Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....
           आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत जाता है।तो कछुआ को ब…

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi
    दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी vivekanand story in hindiशेयर कर रहा हूँ

    बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेकानन्दजी ने ध्यान …