सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रटो नही समझो hindi story with moral

  रटो नही समझो hindi story with moral


hi दोस्तों स्वागत है आपका inhindistory.com पर आज हम आपके लिए इन नई  hindi story with moral लेकर आये हैं । जो आपको पसंद आएगी।  रटो नही समझो hindi story with moral :-

                                 बहुत समय एक वन के अन्दर एक
     आश्रम था । जिसमें एक महाऋषि रहते थे। वो उस शांत वातावरण में घोर तपस्या करते थे। वो बहुत दयालु प्रकृति के थे और वन के पशु पक्षियों से उनका काफी लगाव था। एक दिन वो वन में घूम रहे थे तो उनको तोते के दो बच्चे दिखाई दिए जो काफी मासूम और शरीर से दुर्बल लग रहे थे । ऋषि को उन तोतों के बच्चे पर दया आ गई । तो ऋषि उन बच्चों को अपने आश्रम ले आये । ऋषि उन दोनों तोतों का बहुत अच्छी तरह से लालन पालन करने लगे। तोते के बच्चे भी ऋषि से बहुत प्यार करते जब भी उनको भूख लगती जोर जोर से चिल्लाते और ऋषि को आते देख प्रणाम बोलते । ऋषि भी यह देख बहुत खुश होते।

 hindi story with moral


 hindi story with moral,hindi story for kids, motivational Hindi story,story

 hindi story with moral

 

     जब तोते बड़े हो गए तो वो उड़कर वन में भी जाने लगे। वो जब तक वन से लौट कर आश्रम न आ जाते जब तक ऋषि को उनकी काफी चिंता रहती । जब तक उनका पूजा पाठ में बिलकुल भी मन नही लगता। उनको चिंता रहती की तोतों को कोई शिकारी न पकड़ ले। एक दिन ऋषि के मन में विचार आया की क्यों न तोतों को सीखा दिया जाये की शिकारी उनको पकड़ने आये तो वो शिकारी के जल में न फसें।

 hindi story with moral

     
 
    अगले दिन ऋषि ने तोतों को पढ़ाना शुरू किया उन्होंने तोतों से बोला की बोलो " बहेलिया ( शिकारी) आयेगा दाना डालेगा जाल बिछाएगा जाल में नही फसना।" तोते भी बोलने लगे "बहेलिया आयेगा दाना डालेगा जाल बिछाएगा जाल में नही फसना।" कुछ ही दिनों में तोतों ने यह वाक्य बहुत ही अच्छे से रट लिया वो जब भी ऋषि को देखते और चिल्लाने लगते " बहेलिया आयेगा दाना डालेगा जाल बिछाएगा जाल में नही फसना।" ऋषि जब उन तोतों से यह सुनते तो उन्हें बहुत ख़ुशी होती की अब ये तोते शिकारी के जाल में नही फसेंगे। इस प्रकार ऋषि की सारी चिंता खत्म हो गई ।

 hindi story with moral


 hindi story with moral, hindi story for kids, motivational story,kahani,story
Add caption

 hindi story with moral

         
         एक बार ऋषि को आश्रम से कहीं बाहर जाना था । तो उन्होंने तोतों से कहा याद रखना बहेलिया के जाल में नही फसना । तोते चिल्लाकर बोलने लगे " बहेलिया आयेगा दाना डालेगा जाल बिछाएगा जाल में नही फसना।" यह सुन ऋषि ख़ुशी ख़ुशी आश्रम से बाहर चले गए।

 hindi story with moral

     
         कुछ ही देर बाद एक बहेलिया आश्रम तरफ आया उसने दाना डाला और जाल बिछा दिया। तोतों ने दाना देखा तो खा ने गये और जाल में फस गये। बहेलिये ने जाल को उठाया और अपनी घर की और जाने लगा कुछ ही देर में संयोग ऋषि भी उसी रास्ते से आश्रम की और आ रहे थे । जैसे ही जाल में फसे तोतों ने ऋषि को देखा तो वो खुश होकर चिल्ललाने लगे " बहेलिया आयेगा दाना डालेगा जाल बिछाएगा जाल में नही फसना।" ☺☺ऋषि ने तोतों को जाल में देखा और उनके मुंह से ये वाक्य सुना तो अपना सर पिट लिया। ☺☺

 hindi story with moral

Moral of story :-   दोस्तों यह कहाँ थोड़ी funny है पर यह हमें बहुत ही सुंदर सन्देश देती है कि किसी भी चीज को रटना नही समझना चाहिये। कभी कभी हम भी बहुत सारी बातों को रट लेते है पर समझते नही ज्यादातर छात्र यही करते है । पर आज से आप रटना बन्द करिए और समझना शुरू कीजिए नही तो किसी दिन तोतों की तरह फास जाओगे।☺☺

 hindi story with moral

         यदि आपको रटो नही समझो hindi story with moral पसंद आयी हो । तो शेयर जरूर करे । यदि आपके पास भी ऐसी hindi story with moral , motivational आर्टिकल हो तो हमें inhindistory@gmail.com पर भेजे हम आपके नाम और फोटो के साथ publish करेंगे। धन्यवाद !

Popular Posts

Top motivational free book pdf in hindi

Top motivational free book pdf in hindi Top motivational free book pdf in hindi इस पोस्ट में मैं आपको उन most popular motivational book के बारे में बताऊंगा। जो आपके पूरे जीवन को ही बदल देगी। साथ में top motivational free book pdf in hindi downlod करने की link bhi दूँगा जहाँ से आप free में motivational free book pdf को आसानी से downlod कर सकते हैं।     बुक सदियों से इंसान की दोस्त रहीं हैं। किताबें हमारी ऐसी दोस्त हैं जो हमारा उस समय में भी साथ देती हैं जब सब हमारा साथ छोड़ देते हैं। ये गम में हमारे साथ रोती हैं तो वहीं खुशियों में खिलखिलाती भी हैं। ये हमें अच्छे बुरे में फर्क करना बताती हैं । हमारी हर उत्सुकता और सवाल का जवाब बढे सुन्दर ढंग से देती हैं। हम किताबों का साथ छोड़ सकते हैं पर ये हमारा साथ कभी नही छोड़ती हैं। जब जीवन में घोर निराशा का अँधेरा होता है तो books ही  उम्मीद की किरण जलाती है।       आज मैं आपको most popular aur selling motivational book के बारे में बता रहा हूँ। इन सभी बुक्स मैं ने स्वयं पढ़ा है और मैं   ये गारन्टी से कह सकता हूँ कि यदि आप इन बुक को पढ़ते ह

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दू

पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी

Hi दोस्तों स्वागत है आपका inhindistory  पर आज आपके लिए एक बहुत ही शिक्षाप्रद स्टोरी लेकर आये हैं उम्मीद है आपको काफी पसंद आएगी ।   पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी बहुत समय की बात है एक गाँव मे शिवपाल नाम का एक युवक रहता था । उसकी माँ की death हो गयी तो उसके बाप ने दूसरी शादी कर ली । सौतेली माँ शिवपाल पर बहुत जुल्म करती थी। उसको खाना भी जो बच जाता वो ही मिलता । और घर के सारे काम भी शिवपाल ही करता था। काम करने में कुछ गलती हो जाती तो उसकी सौतेली माँ उसको बहुत मरती थी । इन सारे गम को और अपनी सारी समस्याओं को शिवपाल गाँव एक बूढ़े को बताता जिस उसको कुछ तसल्ली मिलती । वह बूढ़ा व्यक्ति भी शिवपाल को काफी चाहता था । वह शिवपाल को समझता और बहुत सारी ज्ञान की बातें बताता । शिवपाल भी उस बूढ़े व्यक्ति के पास जाकर अपने सारे गम भूल जाता।   एक दिन शिवपाल एक पोटली के साथ बूढ़े के पास पहुँचा और बोला बाबा आज इस गाँव से मेरा दान पानी उठ गया । अब मे इस गाँव को छोड़कर जा रहा हूँ। अब मुझ से माँ की गाली और बरदास्त नही होती हैं। बूढ़े ने बोला :-  बेटा और अच्छे से सोच लो इस अजनवी दुनिया मे