सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पारस पत्थर ....Story in hindi

             पारस पत्थर ....Story in hindi


समय एक छोटा सा शब्द है पर इस पर हमारी पूरी सफलता निर्भर करती है। यदि सही वक्त पर सही फैसला लिया जावे तो यह सफलता प्राप्त करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ज्यादातर लोग समय के महत्व को नही समझते और उसे बर्वाद करते रहते है। पर एक बाद याद रखनी चाहिए की यदि आप आज समय को बर्वाद करते हो तो आगे चलकर यही समय आपको बर्वाद कर देगा।

Story in hindi, in hindi story


     बहुत समय एक आश्रम था। जिसमे पढ़ने के लिए दूर दूर से छात्र आते थे। एक बार एक नया छात्र आश्रम में पढ़ने के लिए आया उसका नाम था रामू । रामू पढ़ने में बहुत होशियार था । पर उसमे एक बहुत बड़ी बुराई थी की वह बहुत आलसी था। हर काम में आलसी करता था। हर कार्य को टालता रहता जब तक वह बहुत जरूरी नही हो जाता।

       आश्रम के मुख्य आचार्य ने जब ऐसा देखा तो उन्हें लगा की यदि रामू की यह आदत नही सुधारी गयी तो उसकी पूरी जिंदगी बर्वाद हो जायेगी। वह ऐसे ही अपना समय बर्वाद करता रहेगा ।

     आचार्य ने रामू को सुधारने के लिए एक युक्ति सोची । एक दिन आचार्य ने रामू को बुलाया और उससे कहा बेटा " आज मैं आश्रम से बाहर जा रहा हूँ। मैं तुम्हें पारस पत्थर देकर जा रहा हूँ। तुम चाहो जितना लोहे से इसको छुआ कर सोना बना सकते हो। मैं कल शाम तक लौट आऊँगा। अतः कल शाम तक का तुम्हारे पास समय है।"
 
     ऐसा कहकर आचार्य ने एक कपड़े में बंधा पत्थर रामू को दे दिया और वो आश्रम से बाहर चले गए। रामू पत्थर को पाकर बहुत खुश हुआ। अब वह सोचने लगा कि " अब में बहुत सारा लोहा खरीदूँगा और उसे सोना बना दूँगा। मेरे पास बहुत सारा धन होगा बहुत सारे नौकर चाकर होंगे।"

        रामु ऐसा सोच सोच कर बहुत खुश हो रहा था। फिर उसने सोचा अभी तो कल तक का समय है। मैं कल सुबह ही जाकर लोहा खरीदूँगा और सोना बना लूँगा। ऐसे सोचते सोचे रामू ने अपना पहला दिन यूँही गुजार दिया।

     दूसरे दिन रामु सुबह जल्दी उठा और सोचने लगा आज तो कुछ भी हो बाजार से लोहा लाकर उसे सोना बनाना है। पर अभी तो काफी समय है दोपहर को बाजार जाऊँगा। जैसे ही दोपहर होता है रामू खाना खाकर बाजार जाने के लिए तैयार होता । उसके बाद रामू फिर सोचने लगता है " अभी तो शाम तक का समय है और अभी धूप भी काफी ज्यादा है और अभी अभी खाना भी खाया है थोड़ा सो लेता हूँ उसके बाद पक्का बाजार जाकर लोहा लाकर उसे सोना बना लूँगा।" ऐसा सोचकर रामू सो जाता है और जब उसकी नींद खुलती है तो वो घबरा जाता है ये क्या शाम हो गई। वह पत्थर लेकर बाजार की और दौड़ता है। पर जैसे ही आश्रम से निकलता है सामने आचार्य खड़े हुए दिखाई देते हैं। आचार्य रामू से बोलते हैं " बेटा मेरा पारस पत्थर मुझे बापस करो।"

       ऐसा सुनकर रामू रोते हुए बोला "गुरुदेव मुझ से बहुत बड़ी गलती हो गई मेरे पास पारस पत्थर था पर मैं ने समय बर्वाद कर दिया अपने आलसीपन के कारण।"

       आचार्य ने कहा " बेटा ये कोई पारस पत्थर नही है यह एक साधारण पत्थर है । पर जो तुम समय बर्वाद कर रहे हो वो जरूर पारस पत्थर है। ये वो समय है जिसका उपयोग कर तुम अपनी और अपने परिवार की जिंदगी बदल सकते हो। तुम्हें इस बात का एहसास दिलाने के लिए ऐसा करना पड़ा।"
रामू ने आचार्य से हाथ जोड़कर कहा " गुरुदेव आज मुझे अपनी गलती का अहसास हो गया आज से मैं कभी भी समय को यूँ बर्वाद नही करूँगा।"

Moral of story :- समय ही पारस पत्थर है इसका सदुपयोग कर आप अपनी जिंदगी को सोना बना सकते हैं।


ये पॉपुलर कहानियाँ भी पढ़े

1. सोच
2.कोरा ज्ञान
3.पाँच बातें

story in hindi.

         story in hindi...पर आई हो । तो शेयर जरूर करे । यदि आपके पास भी ऐसी hindi story with moral , motivational आर्टिकल हो तो हमें inhindistory@gmail.com पर भेजे हम आपके नाम और फोटो के साथ publish करेंगे। धन्यवाद !






   
       

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दू

एक बार फिर कछुआ और खरगोश रेस....motivational story

vivekanand story in hindi   Hi दोस्तों एक बार फिर स्वागत आप सभी का in hindi motivational story chakhdey पर और आप सब है मेरे साथ अर्थात गौरव के साथ तो शुरू करते है कहानी....            आप सभी ने खरगोश और कछुए की कहानी तो पड़ी ही होगी की कछुआ और खरगोश की दौड़ होती है।खरगोश बहुत तेज दौड़ता है।फिर एक पेड़ के नीचे आराम करने लगता है और उसकी नींद लग जाती है।और कछुआ दौड़ जीत लेता है। अब दोसरी स्टोरी-       जब कछुआ रेस जीत जाता है।तब खरगोश को अपनी गलती का एहसास होता है।वह शेर के पास जाता हैऔर फिर से रेस करने की प्राथना करता है।शेर कछुए को बुलाकर पूछता है कि कछुआ तुम से एक बार फिर रेस करना चाहता है।क्या तुम तैयार हो चूँकि कछुआ रेस जीता था।इसलिए थोड़ा सा ईगो भी आ गया।शेर की बात सुनकर हँसकर बोलता है कि ख़रगोश भाई को फिर से हारने का शौक है तो वह तैयार है। दूसरे दिन सभी जानवर रेस देखने के लिए तय स्थान पर पहुँच जाते है।हरी झंडी दिखाई जाती है और रेस शुरू होती है।इस बार खरगोश पहली वाली गलती नही दोहराता है।तेजी से दौड़ कर बहुत बड़े अंतर से रेस जीत लेता है। तीसरी स्टोरी--          जब खरगोश जीत

vivekanand story in hindi dhyan ki shakti

vivekanand story in hindi     दोस्तों आज मैं आपके साथ स्वामी विवेकानंद जी की जीवन की एक और प्रेणादायी कहानी  vivekanand story in hindi   शेयर कर रहा हूँ           बात शिकागो की है एक बार विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ टहलते हुए एक नदी के किनारे पर पहुँचे वहाँ पर देखते हैं कि कुछ लोग नदी मे बहने वाले अंडे के छिलकों पर बंदूक से निशाना लगा रहे हैं पर बहते हुए अंडो के छिलके पर किसी से भी निशाना नही लग रहा स्वामी जी ने कुछ देर यह सब देखा पर किसी से भी नदी मे बहते हुए अंडे के छिलकों पर निशाना नही लगा सब काफी मेहनत कर रहे थे स्वामी विवेकानंद अपने अनुनायियों के साथ उन बन्दों के पास गए जो निशाना लगा रहे थे और बोले की वह भी निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने आश्चर्य से स्वामी विवेकानंद को देखा क्योंकि वो एक सन्यासी के भेष मे थे और स्वामी विवेकानंद से पूछा की उन्होंने पहले कभीं निशाना लगया है तो स्वामी जी ने मुस्कुराकर जबाब दिया की के उन्होंने पहले कभी भी बन्दूक तक नही चलायी पर आज निशाना लगाना चाहते हैं जो निशाना लगा रहे थे उन्होंने स्वामीजी को अपनी बन्दूक दे दी विवेक