सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सुबह जल्दी उठने के फायदे /shubah jldi uthane ke fayde

 सुबह जल्दी उठने के फायदे 


हमें बचपन से सिखाया गया है कि हमें सुबह जल्दी उठना चाहिये। पर क्यों हमें सुबह जल्दी उठना चाहिये ? ये सवाल तो अक्सर आपके दिमाग में भी आता होगा। हमारे वेदों में भी माना है कि प्रत्येक मनुष्य को ब्रह्म महुर्त में उठना चाहिये।

हिन्दू धर्म ही नही बल्कि दुनिया के सभी धर्म में सुबह जल्दी उठने के महत्व को बताया गया है। आज आपको इस पोस्ट में सुबह उठने के फायदे और सुबह उठने के तरीके के बारे में बताएंगे।




सुबह उठने के बारे में अंग्रेजी की एक लोक प्रिय कहाबत है

"अर्ली टू बेड और अर्ली टू राइज़ मेक्स अ पर्सन हेल्दी, वेल्दी ऐंड वाइज़ "

अर्थ  - रात को जल्दी सोने और सुबह जल्दी उठने की आदत व्यक्ति को स्वस्थ , धनवान और अक्लमंद ( बुद्धिमान)  बनाती है।

Subah jldi kAise uthen, subah jldi uthne ke fayde



सुबह जल्दी उठने के फायदे -



1. शांत वातावरण  -  जब आप सुबह उठते है तो वातावरण में शोरगुल नही होता है सिर्फ आपको पंक्षियों की आवाज सुनाई देगी जो आपको एक अदभुत मानसिक शांति का अनुभव कराएंगी। पुरे दिन में सुबह जल्दी ही एक ऐसा समय होता है । जब आपके आस इतनी शांति महसूस करते हैं।

2. स्वास्थ्य लाभ - सुबह ऑक्सीजन का लेवल सर्वाधिक होता है जैसे जैसे धुप निकलती है वैसे वैसे वातावरण में CO2 ( कार्बन डाइऑक्साइड) का लेवल बढ़ने लगता है। सुबह जल्दी उठना शरीर को स्वस्थ रखता है।

3. डिप्रेशन ( अवसाद ) से छुटकारा - एक शोध के अनुसार सुबह जल्दी उठने वालो में डिप्रेशन होने का खतरा सुबह देर तक उठने वालो की तुलना में बहुत कम होता है।

4. दिन भर तरो ताजा महसूस करना - जो व्यक्ति सुबह जल्दी उठते है वो अन्य व्यक्तियों की तुलना में दिन भर स्वयं को बहुत फ्रेश महसूस करते है। सुबह जल्दी उठने से वो ऑफिस भी अपने टाइम से पहुचते हैं । और अपना काम समय पर खत्म करते है । जिससे वो खुशमिजाज रहते हैं।

5. Concentration power -  जल्दी सुबह उठकर पढ़ने वाले चीजों को ज्यादा जल्दी समझ जाते है और उन्हें देर तक याद रखते हैं। रोज सुबह जल्दी उठने वालों की मेमोरी और concentration पावर अधिक होती है।



सुबह जल्दी कैसे उठें -



1. जल्दी सोने की आदत डालें -  सुबह जल्दी उठने के लिए रात को जल्दी सोने की आदत डालें। यदि आप रात को जल्दी नही सोते हैं तो आप सुबह जल्दी जाग भी जायेंगे फिर भी आप फ्रेश महसूस नही करेंगे क्योंकि आपकी नींद पूरी नही होगी और आपको सुबह उठने के फायदे की जगह नुकसान हो जायेगा। अतः सुबह जल्दी उठना है तो रात को जल्दी सो जाएं।


2. सुबह जल्दी उठने की एक वजह खोजे - जब तक आप अपने मन को एक वजह नही दोगे तब तक वह सुबह उठने की आपकी बात को नही मानेगा। यह वजह हो सकता अच्छा स्वस्थ इसके लिए सुबह gym या योगा की जरुरत या फिर पढ़ाई  हो सकती है। जिस कारण आप सुबह आसानी से उठ सकते हैं। 

3. सिर्काडियन क्लॉक  -  हर व्यक्ति के अंदर एक कुदरती घड़ी होती है इसे सिर्काडियन क्लॉक कहते हैं। इस घड़ी का उपयोग कर व्यक्ति सुबह आसानी से उठ सकता है। इस घड़ी का इस्तमाल अपने कई बार किया होगा याद करो आपको सुबह कहीं जाना होता है या फिर कोई और जरुरी कार्य होता है तो उस दिन आपकी नींद बिना किसी अलार्म के सही समय पर खुल जाती है। 



सुबह कितने बजे उठें ?-



यह एक आम सवाल है कि हमें सुबह कितने बजे उठना चाहिए ? इसका जबाब है कि आपको सुबह 4 से 5 तक उठ जाना चाहिए। इस समय को ब्रह्म महुर्त कहते हैं और साइंस के अनुसार इस टाइम पर  ऑक्सीजन लेवल सर्वाधिक रहता है।


रात को  कितने बजे तक सो जाना चाहिए ?

हो सकते आपको रात के 10 बजे तक सोने की आदत डाल लेनी चाहिए । जिससे सुबह 5 बजे तक आपकी नींद भी अच्छे से पुरी हो जाये। यदि आप देर रात तक जागेगें तो सुबह जल्दी उठने पर आप बहुत आलसी महसूस करेंगे।



सुबह जल्दी उठकर क्या करें ?- 



सुबह जल्दी उठकर 20 minute से 30 minute व्यायाम या योगासन या ध्यान करें। इसके बाद अच्छी बुक्स का अध्ययन करें। उसके कुछ समय बाद नाश्ता कर अपने दैनिक कार्य को करें।

@gaurav rajput



यदि आपको ये पोस्ट पसन्द आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। हमारा उद्देश्य ऐसी ज्यादा से ज्यादा पोस्ट लाना है जिससे आपके जीवन में एक सकारात्मक परिवर्तन लाया जा सके। धन्यवाद!

Popular Posts

Top motivational free book pdf in hindi

Top motivational free book pdf in hindi Top motivational free book pdf in hindi इस पोस्ट में मैं आपको उन most popular motivational book के बारे में बताऊंगा। जो आपके पूरे जीवन को ही बदल देगी। साथ में top motivational free book pdf in hindi downlod करने की link bhi दूँगा जहाँ से आप free में motivational free book pdf को आसानी से downlod कर सकते हैं।     बुक सदियों से इंसान की दोस्त रहीं हैं। किताबें हमारी ऐसी दोस्त हैं जो हमारा उस समय में भी साथ देती हैं जब सब हमारा साथ छोड़ देते हैं। ये गम में हमारे साथ रोती हैं तो वहीं खुशियों में खिलखिलाती भी हैं। ये हमें अच्छे बुरे में फर्क करना बताती हैं । हमारी हर उत्सुकता और सवाल का जवाब बढे सुन्दर ढंग से देती हैं। हम किताबों का साथ छोड़ सकते हैं पर ये हमारा साथ कभी नही छोड़ती हैं। जब जीवन में घोर निराशा का अँधेरा होता है तो books ही  उम्मीद की किरण जलाती है।       आज मैं आपको most popular aur selling motivational book के बारे में बता रहा हूँ। इन सभी बुक्स मैं ने स्वयं पढ़ा है और मैं   ये गारन्टी से कह सकता हूँ कि यदि आप इन बुक को पढ़ते ह

कोरा ज्ञान ....एक emotional motivational कहानी

Hi दोस्तों आप हैं। प्रेणादायी chakhdey गौरव के साथ दोस्तों ज्यादतर हम लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त करते हैं।जो सिर्फ किताबों तक सिमित होती है। एक तरह से पंगु बना देती है।हम आज इस टॉपिक पर विस्तार से बात करें।उससे पहले एक कहानी इस टॉपिक को खूबसूरत तरीके से बयाँ करती है।         एक बहुत बड़े पंडितजी रहते हैं।जिनकी ख्याति दूर- दूर तक फैली होती है।उनके प्रवचन सुनने के लिए लोग दूर -दूर से आते हैं।पंडितजी को इस बात का बड़ा घमण्ड रहता है।वो हमेशा अपनी तारीफ सुन्ना पसंद करते हैं ।एक बार सावन के महीने मे एक गांव मे भगवत कथा करनी होती है।पंडितजी के गांव और उस गांव के बीच एक बड़ी नदी बहती है ।जिसे नाव के द्वारा पर करना पड़ता है।पंडितजी शाम के समय नदी किनारे पहुचते है।वहां पर नाव चलने वाले मल्लाह को बुलाकर कहते हैं कि मुझे जल्दी नदी पर कर दो बहुत जरूरी काम है। मल्लाह हाथ जोड़कर बोलता है पंडितजी कुछ लोग और आजाएं तो मुझे थोड़ा फायदा हो जायेगा।पंडितजी गुस्से से लाल आंख करते हुए बोलते है मुर्ख तू जनता है मैं कौन हूँ।मेरा थोड़ा सा समय भी बहुत कीमती है।तू मुझ अकेले को नदी पर करायेगा तो मे तुझे किराया तो दू

पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी

Hi दोस्तों स्वागत है आपका inhindistory  पर आज आपके लिए एक बहुत ही शिक्षाप्रद स्टोरी लेकर आये हैं उम्मीद है आपको काफी पसंद आएगी ।   पाँच बातें - हिंदी बेस्ट मोटिवेशनल कहानी बहुत समय की बात है एक गाँव मे शिवपाल नाम का एक युवक रहता था । उसकी माँ की death हो गयी तो उसके बाप ने दूसरी शादी कर ली । सौतेली माँ शिवपाल पर बहुत जुल्म करती थी। उसको खाना भी जो बच जाता वो ही मिलता । और घर के सारे काम भी शिवपाल ही करता था। काम करने में कुछ गलती हो जाती तो उसकी सौतेली माँ उसको बहुत मरती थी । इन सारे गम को और अपनी सारी समस्याओं को शिवपाल गाँव एक बूढ़े को बताता जिस उसको कुछ तसल्ली मिलती । वह बूढ़ा व्यक्ति भी शिवपाल को काफी चाहता था । वह शिवपाल को समझता और बहुत सारी ज्ञान की बातें बताता । शिवपाल भी उस बूढ़े व्यक्ति के पास जाकर अपने सारे गम भूल जाता।   एक दिन शिवपाल एक पोटली के साथ बूढ़े के पास पहुँचा और बोला बाबा आज इस गाँव से मेरा दान पानी उठ गया । अब मे इस गाँव को छोड़कर जा रहा हूँ। अब मुझ से माँ की गाली और बरदास्त नही होती हैं। बूढ़े ने बोला :-  बेटा और अच्छे से सोच लो इस अजनवी दुनिया मे